अल्सर (Ulcer)

अल्सर
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

आमाशय यानि पेट या फिर छोटी आंत (small intestine) में होने वाले इन्फेक्शन, घाव या फिर छाले को अल्सर या stomach अल्सर (Ulcer) या फिर गैस्ट्रिक(gastric) अल्सर भी कहा जाता है।

जब पेट में अल्सर हो जाता है तो पेट या आंत की सुरक्षात्मक परत टूट जाती है। कभी कभी जब अल्सर ज्यादा बढ़ जाता है तो उसके फटने की भी संभावना रहती है अतः समय रहते हीं इसका इलाज करवा लेना चाहिए।

  • अल्सर होने का कारण

अधिक धूम्रपान करने से आमाशय यानि की पेट में अल्सर होने की संभावना अधिक रहती है।
अधिक शराब पीने से भी पेट या आंत(intestine) में ulcer हो जाता है।
कॉफ़ी(coffee) या फिर चाय(tea) का भी अधिक सेवन करने से अल्सर(ulcer) हो सकता है।
खाने में ज्यादा गरम मसाले का इस्तेमाल करने से भी पेट में अल्सर(ulcer) होता है।
ज्यादा तनाव में रहने से भी stomach में अल्सर होने की संभावना रहती है।

  • अल्सर के लक्षण

पेट में हमेशा दर्द होना, बदहज़मी,
उल्टी होना या उल्टी से खून निकलना, ह्रदय में जलन होना, मल से खून आना, वजन का घटना आदि ये सारे अल्सर के लक्षण होते है।

  • अल्सर का इलाज

शहद(honey) :
औषधीय गुणों से भरपूर होता है। शहद (honey) पेट के अन्दर की जख्मो पर मरहम का काम करता है। अगर आपके पेट या आंत में अल्सर हो गया हो तो आप दिन में किसी भी समय एक बार १ से २ चम्मच शुद्ध शहद को जरुर खाएं क्योंकि शहद पेट व आंत में हुए घाव को नष्ट कर देता है। जिससे अल्सर जल्द ही ठीक हो जाता है ।

  • मैथी के दाने(fenugreek)

अल्सर को ठीक करने में मैथी भी बहुत फायदेमंद होती है। इसे इस्तेमाल करने के लिए पहले एक glass पानी में एक से डेढ़ चम्मच मैथी दाने को डालकर उसे कुछ देर तक उबाल लीजिए और फिर उस पानी के ठंडा होने पर छान लीजिए। अब मैथी (fenugreek) के पानी में एक चम्मच शहद (honey) को मिला कर उसे पी लीजिए। हर रोज दिन में एक बार मैथी के पानी में शहद को मिला कर पीने से आप अल्सर की समस्या से छुटकारा पा सकते है ।

  • पत्ता गोभी (cabbage)

पत्तागोभी(cabbage) को भी stomach ulcer के लिए एक बेहतरीन औषधि माना जाता है। इसके सेवन से पेट के अन्दर की सहत को energy मिलती है जो की अल्सर को ठीक करने में सहायक होती है। इसे इस्तेमाल करने के लिए पहले पत्ता गोभी को काट कर उसे अच्छे से साफ़ पानी से धो लें और फिर उसमें थोड़ा पानी मिक्स कर के उसे पीस लें। पीसे हुए पत्ता गोभी (cabbage) के जूस को छान कर रात को जब सोने जा रहे हों तो उससे पहले पी लें इससे अल्सर ठीक होता है ।

  • नारियल पानी

हर रोज सुबह सुबह खाली पेट ताजे नारियल का पानी के सेवन से पेट या आंत में हुए अल्सर ठीक होते है।

केला(banana), vegetable juice, aloe vera, सहजन (drumstick), कच्चा दूध आदि इन सब के सेवन से भी अल्सर ठीक होता है।

 

वैद्य श्री हंसराज चौधरी
नवग्रह आश्रम
द्वारा दिए गए इलाज निम्नलिखित हैं

आहार नाल, आमाशय बड़ी आँत, छोटी आँत आदि अंगों में छोटे-छोटे छाले एवं घाव बन जाने से यह रोग होता है।
आमाशय में अधिक पित्त की अधिकता भी इस रोग का मुख्य कारण है।

लक्षण:

रोग को भोजन पूरा पचे बिना ही 10:15 मिनट से लेकर 1 घंटे के अंदर अंदर मल त्याग की तीव्र इच्छा होती है। मल चिकना और कई रंगों से मिश्रित एवं तेलीय पदार्थों से युक्त लसलसा मल निकलता है, जो कि एक अजीब तरह की गंध लिए होता है, रोगी भोजन करने और दूध पीने से डरने लगता है।

औषधिः

आंवला, हरड़, बहेड़ा बिल पत्र का गुदा सूखा पाउडर (नीचे वाली औषधि की दुगुनी मात्रा में)

हल्दी, मैथी, काली मिर्च, श्याम तुलसी, छोटी पीपल (ऊपर वाली औषधि की आधी मात्रा)

इन सभी का चूर्ण बना लें।

खुराक:

एक से डेढ़ चम्मच प्रातः भूखे पेट एवं रात्रि भोजन के 2 घंटे बाद, 4 चम्मच चम्मच शहद के साथ मिलाकर चाटें (औषधि की मात्रा रोग की तीव्रता के अनुसार कम या अधिक कर लें)

नोटः- रोगी 90 दिन तक दूध, तेल, मिर्च मसाले, चाय, खीर, अचार एवं कब्जी करने वाले भोजन से परहेज करें।

अस्वीकरण

मैं अपने किसी भी हेल्थ मेसेज का 100% सही होने का दावा नहीं करता । इस टिप्स से काफी लोगों को फायदा हुआ है। कृपया आप किसी भी हेल्थ टिप्स का अपने ऊपर प्रयोग करने से पूर्व अपने वैद्यराज जी से राय लेवें ।

राजीव जैन
अध्यक्ष
बाल सेवा समिति, भीलवाड़ा

हमारे हेल्थ ग्रुप से जुड़ने के लिए हमे Whatsapp के द्वारा सूचित करें|

To join our health group, kindly notify us using WhatsApp.

0 0 vote
Article Rating

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments