Sciatica (साईटिका)

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

1 लहसुन 5 ग्राम
2 राई 5 ग्राम
3 तुलसी 25 पत्ते
4 शहद 50 ग्राम
5 सेव फल 5 ग्राम
6 गुगल 5 ग्राम
7 लौकी 5 ग्राम
8 निरगुंडी के पत्ते 5 पत्ते
9 हार श्रृंगार 5 पत्ते

सभी चीजों को बारीक कूट पीट कर दो भाग कर लें फिर प्रातः काल भूखे पेट व रात्रि को सोते समय खाने के 2 घण्टे बाद चबा चबा कर खायें।

साईटिका तेल:
नील गिरी, तारपीन और तिल का तेल , तीनों 100-100 ग्राम मिला कर
ऊपर से नीचे की दिशा में मालिश करें

जूस:

हार श्रृंगार , निरगुंडी व बिल पत्र के 5-5 पत्ते मिलाकर जूस बनाकर प्रातः काल खाने के 2 घण्टे पूर्व खाली पेट पियें।

नोट
अगर आप परामर्श हेतु वैद्य श्रीमान् हंसराज जी चौधरी साहब से मिलना और दवा लेना चाहें तो नवग्रह आश्रम, मोती बोर का खेड़ा , शनिवार और रविवार को प्रातः 7 बजे से सायं 5 बजे तक आश्रम पर दिखा सकते हैं ।
अगर आपके पास रोगी की कोई जांच रिपोर्ट है तो साथ लेकर आएं रोगी को साथ लाना आवश्यक नहीं ।

साईटिका

अस्वीकरण

मैं अपने किसी भी हेल्थ मेसेज का 100% सही होने का दावा नहीं करता । इस टिप्स से काफी लोगों को फायदा हुआ है। कृपया आप किसी भी हेल्थ टिप्स का अपने ऊपर प्रयोग करने से पूर्व अपने वैद्यराज जी से राय लेवें ।

राजीव जैन
अध्यक्ष
बाल सेवा समिति, भीलवाड़ा

हमारे हेल्थ ग्रुप से जुड़ने के लिए हमे Whatsapp के द्वारा सूचित करें|

To join our health group, kindly notify us using WhatsApp.

5 1 vote
Article Rating

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Aditi
Aditi
2 years ago

Thanks for very informative sharing keep sending ??